0
सरल आवर्त गति करते किसी कण की गति का वर्णन निचे दिए गए विस्थापन फलन द्वारा किया जाता हैं,
`x(t)=A cos(omegat+phi)`
यदि कण की आरंभिक(t = 0) स्थिति 1 cm तथा उसकी आरंभिक वेग `pi cm” “s^(-1)` हैं, तो कोण का आयाम तथा आरंभिक कला कोण क्या हैं ? कण की कोणीय आवृति `pi” “s^(-1)` हैं | यदि सरल आवर्त गति का वर्णन करने के लिए कोज्या (cos) फलन के स्थान पर हम ज्या फलन चुनें `x =B sin(omegat+alpha)` तो उपरोक्त आरंभिक प्रतिबंधों में कोण का आयाम तथा आरंभिक कला कोण क्या होगा ?